Logo HindustanResult.com

Share on:- Share

Weekly Current Affairs :- From 01-November to 07-Noveber-2017
Special Banking Arrangement for payment of outstanding subsidy to fertilizer -CCEA

The Cabinet Committee on Economic Affairs (CCEA) approved implementation of Special Banking Arrangement (SBA) for Rs. 10,000 crore for payment of outstanding claims on account of fertilizer subsidy in year 2016-17. CCEA chaired by Prime Minster Narendra Modi also approved that in future, Department of Fertilizers will avail SBA with concurrence of Department of Expenditure, Ministry of Finance. Government is making available fertilizers, namely 21 grades of P&K fertilizers and Urea to farmers at subsidized prices through fertilizer manufacturers and importers. For making funds available to fertilizer companies against their subsidy claims, Union Ministry of Finance had approved SBA for amount of Rs. 10,000 crore with Government interest liability limited to G-Sec rate. Under the SBA, total loan of Rs. 9,969 crore was raised by Government for settlement of outstanding subsidy bills with SBI. The loan amount along with interest liability on part of Government amounting to Rs. 80.90 crore were paid to SBI. SBA for amount of Rs. 10,000 crore for year 2016-17 already has been implemented and operationalised to overcome liquidity problems of fertilizer companies.

Indian Army releases Integrated Quarter Master Package Software Application

Indian Army has formally launched Integrated Quarter Master Package (IQMP) software application for automating various logistics related functions of an Army Unit. IQMP is web based software developed by Army Software Development Centre in association with TCS Ltd. It will replace numerous legacy applications such as ‘Vastra’ and ‘Quarter Master Package’. The IQMP software package comprises thirteen modules to automate all logistics functions of Indian Army at unit level. It can be dynamically configured to meet specific requirements of various types of Army units. It is capable of sharing information and data with other software applications in domain of logistics management. The IQMP software has been developed with aim of bringing speed, accuracy and transparency in handing logistics aspects in unit. It will help in effective logistics management and decision making, thereby assisting Indian Army units to be battle ready all time. It will also play an important role in achieving automation of Indian Army and play important role towards ‘Digital Army’ in consonance with Government’s ‘Digital India initiative’.

India ranks 108th in Global Gender Gap Index 2017

India was ranked low at 108th position out of 144 countries in Global Gender Gap Index 2017 released as part of World Economic Forum’s (WEF) Global Gender Gap Report 2017. India slipped by 21 places compared to 87th rank last year. What is Global Gender Gap Index? The index measures gender gap as progress towards parity between men and women in four indicators (i) Educational attainment, (ii) Health and survival, (iii) Economic opportunity and (iv) Political empowerment. Countries are ranked based scores on scale ranging from 0 (lowest i.e. imparity) to 1 (highest i.e. parity). It is released every year by WEF since 2006. Iceland is most gender-equal country with score of 0.878. It is followed by Norway (2 rank), Finland (3), Rwanda (4) and Sweden (5), Nicaragua (6) and Slovenia (7), Ireland (8), New Zealand (9) and the Philippines (10). Overall 68% of global gender gap has been closed, but it is slight deterioration is seen compared to 2016 when gap closed was 68.3%. At current rate of progress, global gender gap will take 100 years to bridge, compared to 83 last year. The case is worse in terms of workplace gender divide as it will take 217 years to close. India’s cumulative score was 0.669 down from 0.683 in 2016. India has successfully closed 67% of its gender gap, less than many of its international peers. India’s neighbours like Bangladesh ranked 47th, ranked at 100th. It was mainly due to low scores in two indicators. They are (i) Health and Survival: India ranked 141 at bottom four. It was mainly due to India’s poor sex ratio at birth which still points to a strong preference for sons. (ii) Economic Participation and Opportunities for Women: India ranked 139, down from 136 last year.

Government launches Food Regulatory Portal and Nivesh Bandhu Portal

Union Government launches Food Regulatory Portal and Investor Facilitation Portal. They were launched on the sidelines of World Food India 2017 Expo. It was jointly launched by Ministry of Food Processing and Industries (MoFPI) and Food Safety and Standards Authority of India (FSSAI). It is a single interface for food businesses to cater to both domestic operations and food imports. >The portal focuses on six key areas food standards, consistent enforcement, hassle free food imports, credible food testing and codified food safety practices of food sector. Standards pertaining to food sector have been notified on it to address concerns of food business across spectrum by ensuring ease of entry, reduced burden of compliance and facilitating trade, he added. What is Naves Bandhu? It is Investor Facilitation Portal to assist investors to make informed investment decisions. It will provide information on Central and State Governments investor friendly policies, agro-producing clusters, infrastructure, and potential areas of investment in the food processing sector.

Scientists discover universe’s most ancient spiral galaxy

Scientists have discovered most ancient spiral galaxy known as A1689B11, recorded so far in the universe. It was detected using powerful technique that combines gravitational lensing with Near-infrared Integral Field Spectrograph (NIFS) on Gemini North telescope in Hawaii. Gravitational lenses are nature's largest telescopes, created by massive clusters composed of thousands of galaxies and dark matter. The A1689B11 galaxy was born 11 billion years ago and existed just 2.6 billion years after Big Bang, when universe was only one-fifth of its present age. It sits behind a massive cluster of galaxies that acts as lens, which scientists used to produce magnified images. The bending of cluster magnified light of galaxies behind it in manner similar to an ordinary lens, but on much larger scale. A1689B11 has very cool and thin disc, rotating calmly with surprisingly little turbulence unlike other galaxies of the same epoch. Studying ancient spirals like A1689B11 can provide insights into early cosmos. It will help in unlocking mystery of how and when Hubble sequence emerges. Spiral galaxies are exceptionally rare in early universe and this discovery opens door to investigating how galaxies transition from highly chaotic, turbulent discs to tranquil, thin discs like those of our own Milky Way galaxy.

Indian Navy To Use US Aircraft Launch System In Ship

Indian Navy is likely to use advanced catapult-based aircraft launch mechanism (CATOBAR) from United States for its second indigenous aircraft carrier (IAC-II), which is on drawing board. In this regard, both countries have held several rounds of discussions in joint working group (JWG) on Aircraft Carrier Technology Cooperation (JWGACTC) under Defence Technology and Trade Initiative (DTTI) set up by them. For some time, India was exploring possibility of installing US electromagnetic aircraft launch system (EMALS). The US has offered India its latest EMALS technology, developed by General Atomics Aeronautical Systems Inc. EMALS uses electric motor-driven catapult instead, which allows launch of much heavier aircraft and reduces stress on aircraft whereas older-generation CATOBAR is powered by steam catapult. It will allow Indian Navy to operate heavy surveillance aircraft, in addition to heavy fighters. However, the system is expensive, something that needs to be factored in. The IAC-II has been envisaged to be around 65,000 tonnes and capable of carrying over 50 aircraft. Indian Navy is keen on nuclear propulsion, which will give it unlimited range and endurance, its development in time seems doubtful. India’s first domestic carrier, Vikrant, weighing 40,000 tonnes, is in an advanced stage of construction in Kochi (Kerala). It is scheduled to be launched by 2018-end. It works on Short Take-Off But Arrested Recovery (STOBAR) mechanism similar to that in present carrier INS Vikramaditya, with an angular ski-jump.

NIRBHAY Sub-Sonic Cruise Missile successfully flight tested

Defence Research and Development Organisation (DRDO) successfully conducted flight test of its indigenously designed and developed long range sub-sonic cruise missile Nirbhay from test range at Chandipur, Odisha. It was the fifth experimental test of Nirbhay missile system. It achieved all mission objectives completely from lift-off till the final splash, boosting the confidence of all scientists associated with the trial. It is India’s first indigenously designed and developed Long Range Sub-Sonic Cruise Missile. It has blended missile and aeronautical technologies which allows it to take off vertically like missile and cruise horizontally like an aircraft. It is two stage missile powered by solid rocket motor booster developed by Advanced Systems Laboratory (ASL) It has operational range of 1000 km and can carry warheads of up to 300 kg including nuclear warheads. It can be launched from various kind of platforms. It has capability to loiter and cruise at 0.7 Mach, at altitudes as low as 100m. It is terrain hugging missile which keeps on encircling the area of its target for several minutes and then hits bull’s eye’ on an opportune time. It is difficult to detect by enemy’s radars. It is capable to engage several targets in a single flight. The guidance, control and navigation system of missile is configured around indigenously designed Ring Laser Gyroscope (RLG) and MEMS based Inertial Navigation System (INS) along with GPS system.

साप्ताहिक कर्रेंट अफेयर्स :- From 01-November to 07-Noveber-2017
उर्वरक को बकाया सब्सिडी के भुगतान के लिए विशेष बैंकिंग व्यवस्था - सीसीईए

आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी (CCEA) ने वर्ष 2016-17 में उर्वरक सब्सिडी के कारण बकाया दावों के भुगतान के लिए 10,000 करोड़ रुपये में विशेष बैंकिंग व्यवस्था (SBA) के कार्यान्वयन को मंजूरी दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में CCEA ने भविष्य में मंजूरी दे दी है कि भविष्य में उर्वरक विभाग वित्त मंत्रालय के व्यय विभाग की सहमति के साथ SBA का लाभ उठाएगा। सरकार खाद निर्माताओं और आयातकों के जरिए सब्सिडी वाले कीमतों पर किसानों को P&K के उर्वरक और यूरिया उपलब्ध करा रही है। उर्वरक कंपनियों को उनके सब्सिडी के दावों के मुकाबले धन उपलब्ध कराने के लिए, केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने SBA को 10000 करोड़ रुपये की राशि सरकार की देयता के साथ G-Sec दर तक सीमित करने की मंजूरी दे दी थी। SBA के तहत, 9969 करोड़ रुपए के कुल ऋण भारतीय स्टेट बैंक के साथ बकाया सब्सिडी बिल के निपटारे के लिए सरकार द्वारा उठाया गया था। सरकार द्वारा 80.90 करोड़ रुपये की राशि की ब्याज देयता के साथ ऋण की राशि भारतीय स्टेट बैंक को दी गई थी। वर्ष 2016-17 के लिए SBA की 10,000 करोड़ रुपये की राशि पहले से ही लागू की गई है और उर्वरक कंपनियों की तरलता की समस्याओं पर काबू पाने के लिए कार्यान्वित किया गया है।

IQMP टीसीएस लिमिटेड के सहयोग से सेना सॉफ्टवेयर विकास केंद्र द्वारा विकसित वेब आधारित सॉफ्टवेयर है

भारतीय सेना ने एक सैन्य इकाई के विभिन्न रसद संबंधी कार्यों को स्वचालित करने के लिए एकीकृत क्वार्टर मास्टर पैकेज (IQMP) सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन को औपचारिक रूप से लॉन्च किया है। IQMP TCS लिमिटेड के सहयोग से सेना सॉफ्टवेयर विकास केंद्र द्वारा विकसित वेब आधारित सॉफ्टवेयर है| यह 'विशाल' और 'क्वार्टर मास्टर पैकेज' जैसी कई विरासत अनुप्रयोगों की जगह लेगा| IQMP सॉफ्टवेयर पैकेज में यूनिट स्तर पर भारतीय सेना के सभी रसद कार्यों को स्वचालित करने के लिए 13 मॉड्यूल शामिल हैं। यह गतिशील रूप से सेना इकाइयों के विभिन्न प्रकार की विशिष्ट आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए विन्यस्त किया जा सकता। यह रसद प्रबंधन के क्षेत्र में अन्य सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों के साथ जानकारी और डेटा को साझा करने में सक्षम है। IQMP सॉफ्टवेयर को इकाई में रसद पहलुओं को सौंपने में गति, सटीकता और पारदर्शिता लाने के उद्देश्य से विकसित किया गया है। यह प्रभावी लॉजिस्टिक्स प्रबंधन और निर्णय लेने में मदद करेगा, जिससे भारतीय सेना इकाइयों को हर समय युद्ध के लिए तैयार करने में मदद मिलेगी। यह भी भारतीय सेना के स्वचालन को प्राप्त करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और सरकार की 'डिजिटल भारत पहल' के अनुरूप 'डिजिटल सेना' की दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

Global Gender Gap Index 2017 में भारत का 108 वां स्थान है।

World Economic Forum’s (WEF) वैश्विक लिंग अंतराल रिपोर्ट 2017 के तहत जारी वैश्विक ग्लैडर गेप इंडेक्स 2017 में 144 देशों में से भारत 108 वें स्थान पर था। भारत पिछले वर्ष 87 वें स्थान की तुलना में 21 स्थानों से फिसल गया। वैश्विक लिंग अंतराल सूचकांक क्या है? सूचकांक ने लैंगिक अंतर को चार संकेतकों में पुरुषों और महिलाओं के बीच समानता के रूप में प्रगति की है (i) शैक्षिक प्राप्ति, (ii) स्वास्थ्य और अस्तित्व, (iii) आर्थिक अवसर और (iv) राजनीतिक सशक्तिकरण। देशों को 0 (निम्न अर्थात् उदासीनता) से लेकर 1 (उच्चतर समस्त समता) तक के पैमाने पर आधारित हैं। यह 2006 से वीईएफ द्वारा हर साल जारी किया जाता है । आइसलैंड 0.878 के स्कोर के साथ सबसे लिंग-समान देश है। इसके बाद नॉर्वे (2 रैंक), फिनलैंड (3), रवांडा (4) और स्वीडन (5), निकारागुआ (6) और स्लोवेनिया (7), आयरलैंड (8), न्यूज़ीलैंड (9) और फिलीपींस (10 )। कुल मिलाकर 68% वैश्विक लिंग अंतर बंद हो गया है, लेकिन यह मामूली गिरावट 2016 की तुलना में 68.3% देखा गया है जब अंतर बंद हुआ था। वर्तमान प्रगति की दर पर, वैश्विक लिंग अंतर को पिछले वर्ष 83 की तुलना में पुल के लिए 100 साल लगेगा। कार्यस्थल लिंग विभाजन के मामले में यह मामला बुरा है क्योंकि इसे बंद करने में 217 वर्ष लगेगा। भारत का संचयी अंक 2016 में 0.683 से 0.669 नीचे था। भारत ने अपने लिंग के अंतराल में से 67% को सफलतापूर्वक बंद कर दिया है, इसके कई अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों की तुलना में कम है। भारत के पड़ोसी देशों में बांग्लादेश का स्थान 47 वां स्थान है, जो 100 वां स्थान पर है। यह मुख्य रूप से दो संकेतकों में कम स्कोर के कारण था वे हैं (i) स्वास्थ्य और जीवन रक्षा: भारत 141 के नीचे चार स्थान पर है। यह मुख्य रूप से जन्म के समय भारत के गरीब लिंग अनुपात की वजह से था, जो अभी भी बेटों के लिए एक मजबूत प्राथमिकता दर्शाता है। (ii) महिलाओं के लिए आर्थिक भागीदारी और अवसर: भारत पिछले साल 136 से नीचे 139 अंकों के साथ रहा।

सरकार ने खाद्य नियामक पोर्टल और निवेश बंधु पोर्टल की शुरूआत

केंद्र सरकार ने खाद्य विनियामक पोर्टल और निवेशक सुविधा पोर्टल लॉन्च किया। वे विश्व खाद्य भारत 2017 एक्सपो के किनारे पर शुरू किया गया। यह संयुक्त रूप से खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय और उद्योग (MoFPI) और खाद्य सुरक्षा और भारत के मानक प्राधिकरण (FSSAI) द्वारा शुरू किया गया था। यह घरेलू व्यापार और खाद्य आयात दोनों को पूरा करने के लिए खाद्य व्यवसायों के लिए एक इंटरफ़ेस है। पोर्टल छह प्रमुख क्षेत्रों भोजन के मानकों के अनुरूप प्रवर्तन, परेशानी मुक्त भोजन आयात, विश्वसनीय खाद्य परीक्षण और खाद्य क्षेत्र की संहिताबद्ध खाद्य सुरक्षा अभ्यासों पर केंद्रित है। उन्होंने कहा कि खाद्य क्षेत्र से संबंधित मानक को सूचित किया गया है ताकि प्रवेश की आसानी, अनुपालन का बोझ और व्यापार को सुगम बनाने के जरिए स्पेक्ट्रम में खाद्य व्यवसाय की चिंताओं को दूर किया जा सके। Naves बंधु क्या है? यह निवेशक सुविधा पोर्टल है जो निवेशकों को सूचित निवेश निर्णय लेने में सहायता करता है। यह केंद्रीय और राज्य सरकारों के बारे में जानकारी प्रदान करेगा निवेशक अनुकूल नीतियां, कृषि उत्पादक समूहों, बुनियादी ढांचे, और खाद्य प्रसंस्करण क्षेत्र में निवेश के संभावित क्षेत्रों।

वैज्ञानिकों ने की ब्रह्मांड के सबसे प्राचीन सर्पिल आकाशगंगा की खोज

वैज्ञानिकों ने ब्रह्मांड में अभी तक दर्ज की गई सबसे प्राचीन सर्पिल आकाशगंगा को A1689B11 नाम से खोजा है। यह शक्तिशाली तकनीक है कि हवाई में निकट अवरक्त इंटीग्रल फील्ड स्पेक्ट्रोग्राफ (NIFS) मिथुन उत्तर दूरबीन पर साथ गुरुत्वीय लेंसिंग को जोड़ती है का उपयोग करते हुए पाया गया। गुरुत्वीय लेंस प्रकृति की सबसे बड़ी दूरबीन, आकाशगंगाओं और काले पदार्थ के हजारों से बना विशाल समूहों द्वारा बनाई गई है। A1689B11 आकाशगंगा का जन्म 11 अरब वर्ष पहले हुआ था और Big Bang के बाद सिर्फ 2.6 बिलियन सालों का अस्तित्व था, जब ब्रह्माण्ड अपने वर्तमान युग का केवल पांचवां हिस्सा था। यह आकाशगंगाओं के एक बड़े क्लस्टर के पीछे बैठता है जो लेंस के रूप में कार्य करता है, जो वैज्ञानिकों ने बड़ी छवियों का उत्पादन किया। क्लस्टर का झुकाव इसके पीछे एक साधारण लेंस के समान आकाशगंगाओं की रोशनी को बढ़ाता है, लेकिन बहुत बड़े पैमाने पर। A1689B11 में बहुत ही शांत और पतली डिस्क होती है, जो एक ही युग के अन्य आकाशगंगाओं के विपरीत आश्चर्यजनक रूप से थोड़ा अशांति के साथ शांति से घूमता है। A1689B11 जैसे प्राचीन सर्पिल अध्ययन जल्दी ब्रह्मांड में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकते हैं। यह रहस्य को अनलॉक करने में मदद करेगा कि हबल क्रम कैसे और कब निकलता है। सर्पिल आकाशगंगाएं प्रारंभिक ब्रह्मांड में असाधारण दुर्लभ हैं और यह खोज कैसे खुराक की जांच करती है कि कैसे आकाशगंगाओं को अत्यधिक अराजक, अशांत डिस्क से लेकर शांत, पतली डिस्क की तरह हमारी अपनी आकाशगंगा के आकाशगंगाओं की तरह।

भारतीय नौसेना जहाज में यूएस एयरक्राफ्ट लॉन्च सिस्टम का करेंगे उपयोग

भारतीय नौसेना अपने दूसरे स्वदेशी विमान वाहक (IAC-II) के लिए संयुक्त राज्य से उन्नत गुलेल आधारित विमान लांच तंत्र (CATOBAR) का उपयोग करने की संभावना है। इस संबंध में दोनों देशों विमान वाहक प्रौद्योगिकी सहयोग (JWGACTC) रक्षा प्रौद्योगिकी और व्यापार पहल के तहत (DTTI) उनके द्वारा की स्थापना पर संयुक्त कार्य समूह (JWG) में विचार विमर्श के कई दौर आयोजित किया है। कुछ समय के लिए, भारत अमेरिका विद्युत विमान प्रक्षेपण प्रणाली (EMALS) स्थापित करने की संभावनाओं पर विचार किया गया था। अमेरिका भारत को अपने नवीनतम EMALS प्रौद्योगिकी, जनरल एटोमिक्स वैमानिकी सिस्टम्स इंक EMALS द्वारा विकसित बजाय बिजली की मोटर चालित गुलेल का उपयोग करता है, जो ज्यादा भारी विमान के शुभारंभ की अनुमति देता है और जबकि पुराने पीढ़ी CATOBAR भाप गुलेल के द्वारा संचालित है विमान पर तनाव कम कर देता है की पेशकश की है। यह भारतीय नौसेना भारी सेनानियों के अलावा, भारी निगरानी विमान संचालित करने की अनुमति देगा। हालांकि, यह प्रणाली महंगी है, जिसमें कुछ तथ्य शामिल हैं IAC-II को लगभग 65,000 टन और 50 से अधिक विमानों को चलाने में सक्षम होने का अनुमान लगाया गया है। भारतीय नौसेना परमाणु प्रणोदन के लिए उत्सुक है, जो इसे असीमित रेंज और धीरज देगा, समय के इसके विकास में संदेह लगता है। भारत की पहली घरेलू वाहक, विक्रांत, 40,000 टन वजन, कोच्चि (केरल) में निर्माण के एक उन्नत चरण में है। यह 2018 के अंत तक शुरू होने की निर्धारित है। यह एक कोणीय स्की-कूद के साथ शॉर्ट टेक-ऑफ लेकिन गिरफ्तार रिकवरी (STOBAR) तंत्र के समान वर्तमान वाहक पोत आईएनएस विक्रमादित्य में पर काम करता है।

निर्भय उप-सोनिक क्रूज मिसाइल सफलतापूर्वक उड़ान परीक्षण

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) को सफलतापूर्वक चांदीपुर, ओडिशा में परीक्षण रेंज से अपने स्वदेश निर्मित और विकसित लंबी दूरी की उप-सोनिक क्रूज मिसाइल निर्भय का उड़ान परीक्षण का आयोजन किया। यह निर्भय मिसाइल प्रणाली का पांचवां प्रयोगात्मक परीक्षण था। यह अंतिम लक्ष्य तक पूरी तरह से सभी मिशन उद्देश्यों को हासिल किया, परीक्षण से जुड़े सभी वैज्ञानिकों के विश्वास को बढ़ाया। यह भारत की पहली स्वदेशी डिजाइन और विकसित लंबी रेंज उप-सोनिक क्रूज मिसाइल है। इसमें मिश्रित मिसाइल और वैमानिकीय प्रौद्योगिकियों को मिश्रित किया गया है जो इसे क्षैतिज रूप से एक विमान की तरह मिसाइल और क्रूज की तरह खड़ी करने की अनुमति देता है। यह दो चरण मिसाइल है जिसे उन्नत सिस्टम्स प्रयोगशाला (एएसएल) द्वारा विकसित ठोस रॉकेट मोटर बूस्टर द्वारा संचालित किया गया है। इसमें 1000 किलोमीटर की परिचालन सीमा है और परमाणु हथियारों सहित 300 किलो तक के हथियार ले सकते हैं। इसे विभिन्न प्रकार के प्लेटफार्मों से लॉन्च किया जा सकता है। इसमें 0.7 मच में लेटीटर और क्रूज की क्षमता है, ऊंचाई पर 100 मीटर के रूप में कम है यह इलाके गले लगाने वाली मिसाइल है जो अपने लक्ष्य के क्षेत्र को कई मिनट के लिए घेरता रहता है और फिर एक उपयुक्त समय पर बैल की आंखों को चलाता है। दुश्मन के रडारों का पता लगाना मुश्किल है यह एक ही उड़ान में कई लक्ष्यों को संलग्न करने में सक्षम है। मिसाइल का मार्गदर्शन, नियंत्रण और नेविगेशन प्रणाली स्वदेशी डिजाइन किए अंगूठी लेजर ज्यॉस्कोस्कोप (आरएलजी) और एमईएमएस आधारित इनरटियल नेविगेशन सिस्टम (आईएनएस) के साथ जीपीएस सिस्टम के साथ कॉन्फ़िगर है।


DMCA.com Protection Status Disclaimer : The Examination Results / Marks published in this Website is only for the Immediate Information to the Examinees an does not to be a constitute to be a Legal Document. While all efforts have been made to make the Information available on this Website as Authentic as possible. We are not responsible for any Inadvertent Error that may have crept in the Examination Results / Marks being published in this Website nad for any loss to Anybody or anything caused by any Shortcoming, Defect or Inaccuracy of the Information on this Website.Thank You!


CopyRight@2017  HindustanResult.Com All Rights Reserved     Contact Us